Himalya Himcocid Benefits and Uses ! गैस , एसिडिटी, अपच, खट्टी डकार आना जैसे रोगों के लिए असरदार दवा


दोस्तों आज  हम बात करेंगे हिमालय कम्पनी की पेट के रोगों जैसे एसिडिटी, अपच, खट्टी डकार आना जैसे रोगों के लिए असरदार दवा हिमालय हिमकोसिड के बारे में और आपको बताएंगे की इससे कौन कौन सी जड़ीबूटिओं और भस्मो सी बनाया गया है ! हिमालया हिमकोसिड पूरी तरह से आयुर्वेदिक नेचुरल Antacid है ये दवा एसिडिटी सीने की जलन, अपच होना, पेट फूलना, उल्टी, पेट दर्द, पेट में गैस बनना आदि पेट की परेशानियों  के लिए बहुत ही अच्छी दवा है

आईये अब जानते है इसमें मजूद जड़ीबूटिओं और भस्मो के बारे में -

1 . कपर्दक भस्म - ये बहुत ही असरदार आयुर्वेदिक antacid है कपर्दक भस्म  अम्लपित्त, गैस, गुल्म, ग्रहणी, खट्टे डकार ,पाचन शक्ति की कमज़ोरी आदि दूर करता है और बढ़े हुवे पित्त को भी कम करता है

2 . दुग्धपाषाण (Magnesium Silicate  )  - दुग्धपाषाण एक तरह का खनिज है जो ग्राही और संकोचक प्रकृति का होता है इसे अंग्रेज़ी में Magnesium Silicate के नाम सी भी जाना जाता है ! ये पेट रोगों में बहुत लाभदायक होता है !

3 . मुक्ताशुक्ति भस्म - मोतियों की सीप को ही मुक्ताशुक्ति कहा जाता है और आयुर्वेदिक विधि से बनायी  गयी इसकी भस्म को मुक्ताशुक्ति भस्म कहते हैं यह पेट के रोगों के लिए बहुत शक्तिशाली माना जाता है ! यह गैस्ट्रिक, पित्त की अधिकता, गुल्म और दुसरे सभी पित्त दोष को दूर करने वाली असरदार  दवा है !

4 . गिलोय - गिलोय जिसे हम गुडूची, गुरीच और अमृता के नाम से भी जानते है ये भी जलन और पित्त विकारों  को दूर करती है, एसिडिटी को ठीक करती है इसमें और भी बहुत से गुण है इसे अगर हमारे लिए अमृत भी कहा जाये तो वो कम है !

5 . आँवला- आँवला एक  बेहतरीन एंटी ऑक्सीडेंट है और विटामिन सी से भरपूर होता है, पेट के रोगों और एसिडिटी को कम करने में हमारी मदद करता है !

6 . पुनर्नवा - पुनर्नवा  सुजन और  एसिडिटी को कम करता है और पेट के रोगों में बहुत असरदार होता है !

हिमालया हिमकोसिड का डोज़ -  दोस्तों हिमालय हिमकोसिड आप खाना खाने के बाद एक से दो चमच इसे आप ले सकते है ! ये बाजार में  काफी  फ्लेवरस  में उपलब्ध है आपको जो भी पसंद हो आप ले सकते हो !
SHARE

.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment